भोगोलिकी

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश के दक्षिणी भाग में 25.45°उ० 81.84°पू० पर स्थित है। यह गंगा और यमुना नदियों के संगम पर समुद्र-स्तर से 98 मीटर (322 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है । यह क्षेत्र प्राचीन काल में वत्स देश के रूप में जाना जाता था। इसके दक्षिणी और दक्षिण-पूर्व में बागेलखंड क्षेत्र है; पूर्व में उत्तर भारत की मध्य गंगा घाटी (पूर्वांचल) है; दक्षिण-पश्चिम में बुंदेलखंड क्षेत्र है; उत्तर एवं उत्तर-पूर्व में अवध क्षेत्र है; तथा पश्चिम में कौशाम्बी के साथ प्रयागराज दोआब बनाता है जिसे निछला दोआब क्षेत्र कहते हैं। प्रयागराज के उत्तर में प्रतापगढ़, पूर्व में संत रविदासनगर, दक्षिण में रीवा (म०प्र०) तथा पश्चिम में कौशाम्बी स्थित हैं।

जलवायु

प्रयागराज की जलवायु उत्तर-मध्य भारत के अन्य शहरों के समान नम उप-उष्ण कटिबंधीय है। इलाहाबाद में तीन मौसम होते हैं: गर्म शुष्क गर्मी, ठंडी शुष्क सर्दियों और गर्म नम मॉनसून। गर्मियों का मौसम अप्रैल से जून तक रहता है, अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से 45 डिग्री सेल्सियस तक रहता है। मानसून जुलाई के शुरू में शुरू होता है और सितंबर तक रहता है। सर्दी का मौसम दिसंबर से फरवरी तक रहता है।

प्रमुख नदियाँ

गंगा और यमुना जनपद की मुख्य नदियां हैं। जनपद का मैदानी क्षेत्र गंगा और यमुना के बीच स्थित है, इसलिए ये नदियों का जनपद के कृषि क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका रहती है।

फसल

प्रयागराज मुख्य रूप से कृषि-प्रधान जिला है जिसमें मुख्य फसलें गेहूं और चावल हैं। कुछ क्षेत्रों में दाल जैसे अरहर, उदद और चना की खेती की जाती है। नहर एवं ट्यूबवेल यहाँ सिंचाई के प्रमुख स्रोत हैं।